अप्सरा और पिशाचिनी : अकबर बीरबल की रोचक कहानी | Akbar Birbal Ki Rochak Kahani 

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम अकबर बीरबल की रोचक कहानी “अप्सरा और पिशाचिनी ” (Akbar Birbal Ki Rochak Kahani) शेयर कर रहे है. जब अकबर ने बीरबल के सामने अप्सरा और पिशाचिनी देखने की इच्छा प्रकट की, तब बीरबल बीरबल उनकी यह इच्छा प्रकट कर पाया. जानने के लिए पढ़िए पूरी कहानी : 

Akbar Birbal Ki Rochak Kahani 

Akbar Birbal Ki Rochak Kahani 
Akbar Birbal Ki Rochak Kahani

पढ़ें : अकबर बीरबल की संपूर्ण कहानियाँ

एक दिन बादशाह अकबर को अप्सरा और पिशाचिनी देखने की इच्छा हुई. बीरबल दरवार में आया, तो अकबर ने अपनी इच्छा प्रकट करते हुए उसे बाध्य किया कि वह दोनों को उनके समक्ष प्रस्तुत करे.

बीरबल “बहुत अच्छा” कहकर तत्क्षण अपने घर चला आया और संध्या के समय एक वेश्या के घर जाकर उसे दूसरे दिन बादशाह अकबर के दरबार में चलने के लिए समझा-बुझा दिया.

अगले दिन वह अपनी पत्नि और वेश्या को लेकर अकबर के पास पहुँचा. वहाँ अपनी पत्नि की ओर इशारा कर बोला, “जहाँपनाह यह स्वर्ग की अप्सरा है.”

अकबर ने पूछा, “यह कैसे अप्सरा हो सकती है? अप्सराएँ तो परम सुंदरी हुआ करती हैं. शास्त्रों में भी अप्सराओं की सुंदरता अद्वितीय बतलाई गई है. लेकिन यह तो एकदम काली और दुर्बल है. कहीं से सुंदर नहीं लगती.”

पढ़ें : शेख चिल्ली की सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ

बीरबल बोला, “जहाँपनाह! सुंदरता गुण की होती है. इस औरत से मुझे स्वर्ग के समान सुख मिलता है, क्योंकि अपनी सेवाओं से ये मुझे बड़ा आराम पहुँचाती है. इसलिए मेरे लिए ये अप्सरा है.”

फिर बीरबल ने वेश्या को अकबर के सामने हाज़िर किया. उसे देख अकबर बोले, “यह तो बड़ी सुंदर है? इसके आभूषण और स्वच्छ वस्त्रों से इसकी सुंदरता और बढ़ गई है.”

बीरबल बोला, “जहाँपनाह! इसकी सुंदरता पिशाचिनी स्वरुप है. एक बार कोई इस सुंदरता के जाल में फंस जाए, तो फिर यह उस व्यक्ति का सर्वस्व हरकर ही पिंड छोड़ती है.”

अकबर बीरबल के इस जवाब से संतुष्ट हो गए.

दोस्तों, आशा है आपको ये “Akbar Birbal Ki Rochak Kahani“ पसंद आयी होगी. कहानी पसंद आने पर इसे Like कर सकते हैं और अपने Friends के साथ Share भी कर सकते हैं. मज़ेदार “Akbar Birbal Story In Hindi पढ़ने के लिए हमें Subscribe ज़रूर कीजिये. Thanks.        

Read More Akbar Birbal Stories In Hindi :

Leave a Comment