न्याय या सोने की अशर्फी : अकबर बीरबल का किस्सा | Akbar Birbal New Story In Hindi

मित्रों, अकबर बीरबल की इस कहानी (Akbar Birbal New Story In Hindi ) में कहानी अकबर बीरबल से हमेशा की तरह एक सवाल पूछते हैं. लेकिन उसका जवाब सुनकर दु:खी  हो जाते हैं. कौन सा था वो सवाल? बीरबल ने वो जवाब क्यों दिया? जानने के लिए पढ़िए Akbar Birbal Ki Khanai

Akbar Birbal New Story In Hindi

Akbar Birbal New Story In Hindi
Akbar Birbal New Story : Image Source : Source : Akbar Birbal PNG

बादशाह अकबर का दरबार लगा हुआ था. बीरबल सहित सारे दरबारी उपस्थित थे. अचानक अकबर ने बीरबल से सवाल किया, “यदि तुम्हें न्याय और सोने की एक अशर्फी में से एक को चुनना पड़े, तो तुम क्या चुनोगे?”

बिना एक क्षण गवाएं बीरबल बोला, “सोने की अशर्फी.”

बीरबल का जवाब सुनकर अकबर सहित सारे दरबारी हैरान रह गए. अकबर को बीरबल से ऐसे जवाब की उम्मीद नहीं थी. इस जवाब पर वे दु:खी भी हुए और नाराज़ भी.

इधर दरबारी बड़े ख़ुश थे. वे हमेशा बीरबल (Birbal) को बादशाह की नज़र में गिराने का प्रयास किया करते और असफ़ल रहते थे. लेकिन इस बार उन्हें कुछ करने की ज़रुरत ही नहीं पड़ी. बीरबल खुद-ब-ख़ुद अपने इस जवाब से बादशाह की नज़रों में गिर गया. वे इंतज़ार कर रहे थे कि अब बादशाह अकबर का अगला कदम क्या होगा? क्या वे बीरबल को सजा देंगे या पद से हटा देंगे?

पढ़ें : अकबर बीरबल की २१ सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ | 21 Best Akbar Birbal Stories 

सारे दरबारी बादशाह की ओर देखने लगे. अकबर बीरबल (Akbar Birbal) से बोले, “बीरबल! तुमसे मैंने इस जवाब की उम्मीद नहीं की थी. मेरी नज़र में तुम अक्लमंद के साथ ही न्यायप्रिय भी थे. मैं हैरान हूँ कि तुमने न्याय के स्थान पर सोने की अशर्फी क्यों चुनी?”

“जहाँपनाह! जिसके पास जो नहीं होता, वो वही चुनता है.” बीरबल बोला, “आपके राज्य में चारों ओर न्याय है. सबको न्याय मिल जाता है. इस तरह न्याय तो मुझे पहले से ही प्राप्त है. धन की कमी है. इसलिए मैंने सोने की अशर्फी चुन ली.”

अकबर बीरबल के इस जवाब से बहुत खुश हुए और उसे १००० सोने की अशर्फियाँ ईनाम में दी. इधर दरबारी अपना सा मुँह लेकर रह गए.    


दोस्तों, आशा है आपको ये “Akbar Birbal New Story In Hindi“ पसंद आयी होगी. आप इसे Like कर सकते हैं और अपने Friends के साथ Share भी कर सकते हैं. मज़ेदार “Akbar Birbal Stories In Hindi” पढ़ने के लिए हमें Subscribe ज़रूर कीजिये. Thanks.        

Read More Hindi Stories :

Leave a Comment