धान की कहानी : उत्तर प्रदेश की लोक कथा | Dhaan Ki Kahani Fok Tale Of Uttarpradesh In Hindi

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम उत्तर प्रदेश की लोक कथा “धान की कहानी” (Dhaan Ki Kahani UP Ki Lok Katha) शेयर कर रहे है. यह लोक कथा खेतों में धान उगने की शुरूवात से संबंधित हैं. 

Dhaan Ki Kahani UP Ki Lok Katha

Dhaan Ki Kahani UP Ki Lok Katha

देश विदेश की लोक कथाओं का विशाल संग्रह : click here

ब्राह्मण बस्ती के ब्राहमणों को एक बार पड़ोसी गाँव से भोज का निमंत्रण मिला. सभी बहुत प्रसन्न हुए और अगले दिन प्रातःकाल ही पड़ोसी गाँव के लिए निकल गये. वहाँ उनकी जमकर खातिरदारी हुई. एक से बढ़कर एक पकवान परोसे गये. सबने पेट भरकर और मन भरकर खाया. फिर दक्षिणा प्राप्त कर वापस घर लौटे लगे.

सभी पैदल आये थे, तो पैदल ही लौट रहे थे. रास्ते में उन्होंने देखा कि चांवल का एक खेत लहलहा रहा है. वे सभी खेत में गये. चांवल की बालियाँ देखते ही, वे स्वयं पर नियंत्रण नहीं रख सके और कच्चे चांवल ही खाने लगे.

उसी समय आकाश मार्ग से भगवान शिव और माँ पार्वती जा रहे थे. उन ब्राह्मणों पर दृष्टि पड़ते ही माँ पार्वती शिवजी से बोली, “देखिये इन्हें, कैसे कच्चे चांवल चबा रहे हैं. जबकि अभी कुछ देर पहले ही भोज करके आ रहे हैं.”

भगवान शिव ने उन ब्राहमणों पर दृष्टि डाली, किंतु कुछ नहीं बोले.

माँ पार्वती बोली, “हमें कुछ करना चाहिए.”

इस पर भी भगवान शिव का मौन न टूटा. तब माँ पार्वती ने सोचा कि अब मुझे ही कुछ करना पड़ेगा और उन्होंने चांवल को श्राप दिया कि उसके ऊपर छिलका हो जाये. तब से ही चांवल के ऊपर छिलका आने लगा और खेतों में चांवल नहीं धान उगने लगा.

Friends, आपको “Dhaan Ki Kahani UP Ki Lok Katha” कैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें. “Dhaan Ki Kahani Uttarpradesh Ki Lok Katha” पसंद आने पर Like और Share करें. ऐसी ही अन्य “Indian Folk Tale Stories In Hindi” पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें. Thanks.

Read More Hindi Stories :

पंचतंत्र की संपूर्ण कहानियाँ

ईसप की संपूर्ण कहानियाँ

शेख चिल्ली की कहानियाँ

मुल्ला नसरुद्दीन की कहानियाँ

Leave a Comment