लोमड़ी, शेर और हिरण की कहानी | Fox Lion And Deer Story In Hindi

लोमड़ी, शेर और हिरण की कहानी, Fox Lion And Deer Story In Hindi, Lomadi Sher Aur Hiran Ki Kahani 

Fox Lion And Deer Story In Hindi

Fox Lion And Deer Story In Hindi

>

एक जंगल में एक लोमड़ी रहती थी। उसकी जंगल में ही रहने वाले एक खूबसूरत हिरण से दोस्ती थी। दोनों अक्सर साथ समय बिताया करते थे। वे बातें करते, खेलते और ढेर सारी मस्ती करते। हिरण को लोमड़ी की दोस्ती पर बड़ा भरोसा था। इसलिए उसके मांसाहारी होने पर उसने उससे दोस्ती की थी। जंगल के अन्य जानवर उसे लोमड़ी से दूर रहने की सलाह देते, लेकिन उसे भरोसा था कि दोस्ती की खातिर लोमड़ी उसे कभी नुकसान नहीं पहुंचाएगी।

एक दिन एक बूढ़ा शेर जंगल में आया। शिकार की तलाश करते हुए वह नदी किनारे पहुंचा। वहां नदी के दूसरे किनारे पर उसे हिरण नज़र आया, जो लोमड़ी के साथ खेल रहा था। हिरण को देखकर शेर के मुंह में पानी आ गया और वह उसका मांस खाने की योजना बनाने लगा। लेकिन अब उसमें पहले जैसी फुर्ती नहीं रह गई थी कि हिरण को भागकर पकड़ ले। उसने बहुत सोच विचार किया और अंततः लोमड़ी को अपने साथ मिलाने का इरादा कर लिया।

पढ़ें : बंदर और मगरमच्छ की कहानी

अगले दिन उसने लोमड़ी को अपने पास बुलाया और उससे कहा, “लोमड़ी, क्या तुम मेरी सहायक बनोगी? तुम्हारा काम होगा, जंगल के जानवरों को फुसलाकर मेरे पास लाना। पास आते ही मैं उनका शिकार कर लूंगा और हम दोनों आधा आधा मांस बांट लेंगे।”

लोमड़ी ने शेर का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। अगले दिन से उसे काम शुरू करना था। रात भर वह सोचती रही कि सबसे पहले किस जानवर को फुसला कर शेर के पास ले जाऊं। किसी भी जानवर को फुसलाना आसान नहीं था। वैसे भी जंगल के जानवर उसे धूर्त समझते थे। उसने सोचा, क्यों न हिरण से ही शुरुवात की जाए। उसे फुसलाना आसान है। 

अगले दिन वह हिरण के पास गई और उसे फुसलाकर शेर की गुफा में ले आई। शेर ने झपट्टा मारकर हिरण को दबोचा और उसे मारकर उसका पूरा मांस खा लिया। लोमड़ी खड़ी देखती रह गई। बाद में उसने शेर से शिकायत की, “तुमने वादा किया था कि आधा मांस तुम मुझे दोगे। लेकिन तुम पूरा मांस खा गए। तुमने मेरा भरोसा तोड़ा है।”

पढ़ें : लोमड़ी और सारस की कहानी 

शेर उसे डपटते हुए बोला, “पहले अपने गिरेबान में झांक कर देख। क्या तूने अपने दोस्त का भरोसा नहीं तोड़ा और उसे मेरा शिकार बनाकर मेरे पास नहीं लाई। भरोसे की नसीहत तब देना, जब तू खुद भरोसेमंद हो। अब चल भाग यहां से, जो अपने दोस्त की न हुई, वो मेरी क्या होगी।”

लोमड़ी मुंह लटका कर वापस चली आई। उसे उसकी करनी का फल मिल गया।

सीख (Lomadi Sher Aur Hiran Ki Kahani Ka Moral)

कभी किसी का भरोसा नहीं तोड़ना चाहिए। भरोसा तोड़ने वाले पर कोई भरोसा नहीं करता।

आशा है आपको  Fox Lion And Deer Story In Hindi पसंद आई होगी। ऐसी ही Hindi Moral Stories पढ़ने के लिए हमें subscribe अवश्य करें। धन्यवाद!

Read More Hindi Stories 

राहगीर और बटुआ की कहानी

पिंजरे में बंद शेर की कहानी

भूखी चिड़िया और बढ़ई की कहानी

बुद्धिमान राजा की कहानी

Leave a Comment