बेचारा गधा : हितोपदेश | Poor Donkey : Hitopadesha Story In Hindi

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम हितोपदेश की कहानी बेचारा गधा (Poor Donkey Hitopadesha Tale In Hindi) शेयर कर रहे हैं. यह कुत्ता, गधा और धोबी की कहानी है. कामचोर कुत्ते को काम की समझाइश देना और उसके काम में टांग अड़ाने का गधे को क्या फल मिलता है. यही इस कहानी में बताया गया है. पढ़िये Gadha Aur Dhobi Story In Hindi :

Poor Donkey Hitopadesha Tale In Hindi 

Poor Donkey Hitopadesha
Poor Donkey Hitopadesha Moral Story In Hindi

बहुत समय पहले की बात है. एक गाँव में एक धोबी रहता था. धोबी ने घर की रखवाली के लिए एक कुत्ता पाला हुआ था. उसके पास एक गधा भी था, जिस पर कपड़े लादकर वह नदी तक ले जाया करता था.

एक रात जब धोबी गहरी नींद में सो रहा था, तब एक चोर घर में घुस आया. घर के बाहर बंधा गधा जाग रहा था. उसने चोर को घर में घुसते हुए देख लिया. लेकिन घर की रखवाली के लिए रखा गये कुत्ते (Dog) को चोर की भनक नहीं लगी. वह बेसुध होकर सो रहा था. गधा पैर मारकर कुत्ते को जगाने लगा, “जागो भाई….घर में चोर घुस आया है.”

कुत्ता की नींद टूट गई, तो वह चिड़चिड़ाकर बोला, “इससे मुझे क्या? मेरी नींद ख़राब मत कर.” और वह दूसरी तरफ़ मुँह करके सो गया.

कुत्ते की दो टूक बात सुनकर गधा हैरान रह गया. वह डांटते हुए बोला, “तुम्हारा काम घर की रखवाली करना है और तुम सो रहे हो. तुम्हें इसी समय भौंककर मालिक को जगाना चाहिए और चोर को भी भगाना चाहिए.”

गधे की डांट का कुत्ते पर कोई असर नहीं हुआ. वह तुनककर बोला, “अब तू मुझे मेरा काम सिखाएगा. मैं अपना काम जानता हूँ. तू अपने काम से मतलब रख. वैसे भी पिछले कुछ दिनों से मालिक से मुझे ढंग से कुछ खाने को नहीं दे रहा है. तो मैं उसके घर की रखवाली क्यों करूं?”

“ये शिकायत करने का समय नहीं है भाई. शिकायत बाद में कर लेना. अभी अपनी ज़िम्मेदारी निभाओ. तुरंत उठो और जाकर मालिक को जगाओ. नहीं तो चोर चोरी करके भाग जायेगा.” गधे के फिर से कुत्ते को समझाने का प्रयास किया.

“तो उसे भागने दो. मुझे भूखा रखने का मालिक को भी तो कुछ सबक मिलना चाहिए.” यह कहकर कुत्ता फिर से सो गया.

गधे को कुत्ते पर बहुत गुस्सा आया. उसे समझ आ गया था कि स्वार्थी और लापरवाह कुत्ते को जगाने का कोई लाभ नहीं. उसने सोचा कि उसे खुद ही शोर मचाकर मालिक को जगा देना चाहिए और वह जोर-जोर से रेंकने लगा.

गधे के रेंकने की आवाज़ जब चोर के कानों में पड़ी, तो वह एक अंधेरे कोने में छुप गया. इधर मालिक भी गधे के शोर से जाग गया. उसने घर के चारों ओर नज़र डाली, तो उसे कोई अनहोनी दिखाई नहीं दी. वह अंधेरे कोने में छुपे चोर को नहीं देख पाया.

आधी रात में उसकी नींद ख़राब करने की वजह से मालिक को गधे पर बहुत गुस्सा आया. वह घर के बाहर गया और एक लकड़ी लेकर गधे की धुनाई करने लगा. इधर चोर अवसर पाकर वहाँ से भाग गया. कुत्ता मज़े से सोता रहा और गधा मार खाकर बेदम हो गया. उसे समझ में आ गया कि अपना काम छोड़कर दूसरे के काम में टांग अड़ाने का क्या नतीज़ा होता है.

सीख (Gadha Aur Dhobi Story Moral In Hindi)

अपने काम से काम रखो.


Friends, आपको ये ‘Poor Donkey Hitopadesha Story In Hindi‘ कैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें. Gadha Aur Dobhi Ki Kahani Hindi Story पसंद आने पर Like और Share करें. ऐसी ही और  Kids Stories In Hindi पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें. Thanks.

Read More Hitopadesha Tales In Hindi :

Leave a Comment