शेख चिल्ली का सपना | Shekh Chilli Ka Sapna

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम शेखचिल्ली की कहानी “शेख चिल्ली का सपना” (Shekh Chilli Ka Sapna) शेयर कर रहे हैं. सपने देखना शेख चिल्ली की आदत थी. वह जब-तब सपनों में डूब जाता था. आज भी वह अपने सपनों की वजह से याद किया जाता है. ये कहानी भी शेख चिल्ली के सपने की है. वह क्क्याया सपना देखता है? और क्या उसका सपना पूरा हो पाता है? जानने के लिए पढ़िये शेख चिल्ली का ये मज़ेदार किस्सा (Shekh Chilli’s Dream Story In Hindi) :

Shekh Chilli Ka Sapna

Table of Contents

Shekh Chilli Ka Sapna
Shekh Chilli Ka Sapna | Shekh Chilli Ka Sapna

पढ़े शेखचिल्ली की संपूर्ण कहानियाँ  

शेख चिल्ली बचपन से ही बड़ा आलसी था. काम-धाम करता नहीं था. बस दिन भर अमीर बन जाने के सपने देखा करता था. उसकी माँ मेहनत-मजदूरी करके घर चलाती थी.

एक दिन किसी के उसकी माँ को दूध से भरे दो घड़े दिए, जिसे लेकर वह घर आई और शेख चिल्ली से बोली, “बेटा! इन दो घड़े में दूध रखा है. पीने का मन हो, तो पी लेना. मैं जंगल में घास छीलने जा रही हूँ.”

माँ के जाने के बाद शेख चिल्ली ने एक घड़े का दूध पी लिए और एक घड़े के दूध से दही जमा दिया. फिर वह बिस्तर पर लेट गया. कुछ ही देर में उसे नींद आ गई और वह सपना देखने लगा.

सपने में उसने देखा कि उसके जमाये दूध से दही बन गया है. दही से उसने मक्खन निकाला और फ़िर मक्खन से घी. घी को उसने बाज़ार में ले जाकर बेच दिया, जो पैसे मिले, उससे उसने एक मुर्गी ख़रीद ली. मुर्गी से अंडे निकले. उस अंडे से चूजे. धीरे-धीरे उसके पास ढेर सारी मुर्गियाँ हो गई.

पढ़े : मुल्ला नसरुद्दीन की कहानियों का संग्रह 

मुर्गी और अंडे बेचकर उसने बहुत पैसे कमाए और गाय ख़रीद ली. अब वह गाय का दूध बेचने का धंधा करने लगा. इस धंधे में उसे बहुत मुनाफ़ा हुआ और वह बहुत अमीर हो गया.

फिर उसने ढेर सारे आभूषण खरीदे और उन आभूषणों को बेचकर वह और अमीर हो गया. फिर एक अमीर सेठ की लड़की से उसने ब्याह कर लिया. साल भर बाद उसका एक प्यारा बेटा हुआ.

बड़ा होने पर बेटा शरारतें करने लगा. इन शरारतों से तंग आकर पत्नी ने शेख चिल्ली से शिकायत की, तो शेख चिल्ली ने छड़ी उठाई और उसे पीटने लगा.    

सपने में ही शेख चिल्ली ने एक लाठी उठा ली और घड़े पर बरसना शुरू कर दिया. घड़ा फूट गया और सारा दही बह गया. उसी समय जंगल से लौटी माँ ने शेख चिल्ली की हरक़त देखी, तो उसकी हाथ से लाठी छीनकर उस पर बरसाने लगी, तब जाकर शेख चिल्ली की नींद खुली.  उसके बाद दो दिन तक माँ ने उसे खाना नहीं दिया.


दोस्तों, आशा है आपको ये “Shekh Chilli Ka Sapna“ पसंद आयी होगी. आप इसे Like कर सकते हैं और अपने Friends के साथ Share भी कर सकते हैं. मज़ेदार “Sheikh Chilli’s Dream Story In Hindiपढ़ने के लिए हमें Subscribe ज़रूर कीजिये. Thanks.  

Read More Story In Hindi      

आलसी की दावत : मुल्ला नसरुद्दीन का किस्सा 

अनोखा नुस्खा : मुल्ला नसरुद्दीन का किस्सा 

सबसे उज्जवल क्या? : अकबर बीरबल का किस्सा

अदृश्य वस्त्र : तेनाली राम का किस्सा  

Leave a Comment