सबसे बड़ा कौन? अकबर बीरबल का किस्सा | Who’s The Biggest Akbar Birbal Story In Hindi

मित्रों, “Who’s The Biggest Akbar Birbal Hindi Story” अकबर बीरबल की इस कहानी में अकबर बीरबल से एक सवाल पूछते हैं और जवाब में उम्मीद करते हैं कि बीरबल उनकी प्रशंसा करे. लेकिन बीरबल ऐसा नहीं करता और वह कुछ और ही जवाब दे देता है. फिर क्या होता है? क्या अकबर नाराज़ होते हैं? बीरबल उन्हें अपनी बात कैसे समझाता है? यही इस कहानी में बताया गया है. पूरा किस्सा जानने के लिए पढ़िए अकबर बीरबल की ये कहानी (Akbar Birbal Hindi Story):

Who’s The Biggest AkbarBirbal Hindi Story

Birbal Hindi Story
Akbar Birbal Hindi Story | Birbal Hindi Story | Source : Akbar Birbal PNG

बादशाह अकबर को अपना शाही बाग़ बेहद पसंद था. अपने खाली समय में वे अक्सर वहाँ सैर के लिए जाया करते थे. एक दिन हमेशा की तरह वे शाही बाग़ में टहल रहे थे. बीरबल भी उनके साथ था.

टहलते-टहलते वे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे. चर्चा का मुख्य मुद्दा अकबर की हाल ही में पड़ोसी राज्यों और क्षेत्रों पर हुई जीतें थे. अचानक अकबर के दिमाग में एक प्रश्न कौंधा और हमेशा की तरह उन्होंने वह प्रश्न बीरबल से पूछ लिया.

प्रश्न था : “सबसे बड़ा कौन है?”

दिल ही दिल में अकबर की चाहत थी कि बीरबल उसकी जीतों के बारे में बखान करे और साथ ही उसकी बहादुरी और नेतृत्वक्षमता की भी.

लेकिन अकबर की उम्मीदों के विपरीत बीरबल ने इस उत्तर दिया, “जहाँपनाह! सबसे बड़ा तो बच्चा ही होता है.”

पढ़ें : अकबर बीरबल के १० मज़ेदार चुटकुले 

अकबर को बीरबल का ये उत्तर बड़ा अटपटा लगा. साथ ही अपना मनचाहा उत्तर न मिलने पर थोड़ा बुरा भी लगा. उन्होंने बीरबल से अपनी बात सिद्ध करने को कहा. बीरबल समझ गया कि अकबर उसके उत्तर से ख़ुश नहीं है. उसने ४८ घंटों का समय मांगा. अकबर ने उसे समय प्रदान कर दिया.

समय मिलने के बाद बीरबल अपने एक मित्र के पास गया और उससे सहायता मांगी. उसके मित्र का एक बहुत ही प्यारा २ साल का बेटा था. बीरबल उसे अपने साथ राजमहल ले जाना चाहता था. मित्र ने उसे अनुमति दे दी और बीरबल बच्चे को लेकर अकबर के दरबार में चला आया.

बीरबल के साथ एक प्यारे से बच्चे को देखकर अकबर बहुत ख़ुश हुए और बीरबल से उसे अपने पास लाने को कहा. जब बीरबल बच्चे को अकबर के पास ले गया, तो उन्होंने उसे अपनी गोद पर बिठा लिया.

बच्चा अकबर की गोद में बैठकर मज़े से खेलने लगा. अकबर उसकी बालक्रीड़ा देखकर हँसने लगे. कुछ पलों के लिए वे राज-पाट की सारी चिंता भूल गए और उस बच्चे के साथ का आनंद लेने लगे.

अचानक खेलते-खेलते बच्चे को जाने क्या हुआ कि उसने अकबर की मूँछे पकड़कर खींच दी. बच्चे की इस हरक़त से अकबर दर्द से चीख उठे. उन्हें बहुत गुस्सा आया. वे बीरबल पर चिल्लाने लगे, “बीरबल! तुम इस गुस्ताख़ बच्चे को मेरे दरबार में क्यों लाये हो? इसे अभी यहाँ से ले जाओ, नहीं तो हम इसे सज़ा दे देंगे.”

बीरबल को ये समय सही लगा, अपनी बात रखने का. वह बोला, “जहाँपनाह! मैं ये बच्चा अपनी बात सिद्ध करने के उद्देश्य से लाया था. आप मेरी बात समझे या नहीं? इस समय ये बच्चा आपसे भी बड़ा है. यदि ऐसा नहीं होता, तो इसमें इतनी हिम्मत ही नहीं होती कि ये आपकी मूँछ खींच सके. इसकी जगह कोई और होता, तो उसकी आपको तकलीफ़ पहुँचाने की जुर्रत ही नहीं होती और यदि वह ऐसा कर भी लेता, तो ज़िन्दा नहीं बचता.”

अकबर बीरबल का उत्तर सुनकर हैरान रह गए. बीरबल बिलकुल सही था. वह बच्चा उन्हें तकलीफ़ पहुँचाने की हिमाक़त कर भी जीवित था और मुस्कुरा रहा था. बीरबल ने बहुत ही चतुराई से अपनी बात सिद्ध कर दी थी.

बीरबल की बात सुनकर अकबर का गुस्सा शांत हो गया. उन्होंने बच्चे को गले से लगा लिया और बीरबल की बहुत प्रशंसा की.     


दोस्तों, आशा है आपको ये “Who’s The Biggest Akbar Birbal Hindi Story“ पसंद आयी होगी. आप इसे Like कर सकते हैं और अपने Friends के साथ Share भी कर सकते हैं. मज़ेदार “Akbar Birbal Ki Kahaniya” पढ़ने के लिए हमें Subscribe ज़रूर कीजिये. Thanks.        

Read More Hindi Stories :

Leave a Comment