उबलता पानी और मेंढक : प्रेरणादायक कहानी | Frog In Boiling Water Motivational Story In Hindi

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम उबलता पानी और मेंढक की कहानी (Frog In Boiling Water Story In Hindi) शेयर कर रहे हैं. जीवन में हमें अक्सर कहा जाता है – परिस्थितियों से समझौता करना ही ज़िन्दगी है. ज़िन्दगी है, तो परिस्थितियों से समझौता करना ही पड़ेगा. लेकिन, कोई हमें ये नहीं बताता कि आँख मूंदकर और परिणाम का आंकलन किये बिना परिस्थितियों से समझौता करना मूर्खता है. उबलता पानी और मेंढक की कहानी हमें इस विषय पर जीवन की एक बहुत बड़ी सीख देती है. पढ़िए पूरी कहानी :   

Frog In Boiling Water Story In Hindi

Frog In Boiling Water Story In Hindi
Frog In Boiling Water Story In Hindi

एक बार वैज्ञानिकों ने शारीरिक बदलाव की क्षमता की जांच के लिए एक शोध किया. शोध में एक मेंढक लिया गया और उसे एक कांच के जार में डाल दिया गया. फ़िर जार में पानी भरकर उसे गर्म किया जाने लगा. जार में ढक्कन नहीं लगाया गया था, ताकि जब पानी का गर्म ताप मेंढक की सहनशक्ति से बाहर हो जाए, तो वह कूदकर बाहर आ सके.

प्रारंभ में मेंढक शांति से पानी में बैठा रहा. जैसे पानी का तापमान बढ़ना प्रारंभ हुआ, मेंढक में कुछ हलचल सी हुई. उसे समझ में तो आ गया कि वो जिस पानी में बैठा है, वो हल्का गर्म सा लग रहा है. लेकिन कूदकर बाहर निकलने के स्थान पर वो अपनी शरीर की ऊर्जा बढ़े हुए तापमान से तालमेल बैठाने में लगाने लगा.

पानी थोड़ा और गर्म हुआ, मेंढक को पहले से अधिक बेचैनी महसूस हुई. लेकिन, वह बेचैनी उसकी सहनशक्ति की सीमा के भीतर ही थी. इसलिए वह पानी से बाहर नहीं कूदा, बल्कि अपने शरीर की ऊर्जा उस गर्म पानी में तालमेल बैठाने में लगाने लगा.

धीरे-धीरे पानी और ज्यादा गर्म होता गया और मेंढक अपने शरीर की अधिक ऊर्जा पानी के बढ़े हुए तापमान से तालमेल बैठाने में लगता रहा.

पढ़ें : बड़ा सोचो – प्रेरणादायक कहानी 

जब पानी उबलने लगा, तो मेंढक की जान पर बन आई. अब उसकी सहनशक्ति जवाब दे चुकी थे. उसने जार से बाहर कूदने के लिए अपने शरीर की शक्ति बटोरी, लेकिन वह पहले ही शरीर की समस्त ऊर्जा धीरे-धीरे उबलते पानी से तालमेल बैठाने में लगा चुका था. अब उसके शरीर में जार से बाहर कूदने की ऊर्जा शेष नहीं थी. वह जार से बाहर कूदने में नाकाम रहा और उसी जार में मर गया.

यदि समय रहते उसने अपनी शरीर की ऊर्जा का प्रयोग जार से बाहर कूदने में किया होता, तो वह जीवित होता.

सीख 

दोस्तों, हमारे जीवन में भी ऐसा होता है. अक्सर परिस्थितियाँ विपरीत होने पर हम उसे सुधारने या उससे बाहर निकलने का प्रयास ना कर उससे तालमेल बैठाने में लग जाते है. हमारी आँख तब खुलती है, जब परिस्थितियाँ बेकाबू हो जाती है और हम पछताते रह जाते हैं कि समय रहते हमने कोई प्रयास क्यों नहीं किया. इसलिए प्रारंभिक अनुभव होते ही परिस्थितियाँ सुधारने की कार्यवाही प्रारंभ कर दे और जब समझ आ जाये कि अब इन्हें संभालना मुश्किल है, तो उससे बाहर निकल जायें. परिस्थितियों से लड़ना आवश्यक है, लेकिन समय रहते उससे बाहर निकल जाना बुद्धिमानी है.

Friends, आपको “Frog In Boiling Water Story In Hindiकैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें. ये “Ubalta Pani Aur Mendhak Ki Kahani” पसंद आने पर Like और Share करें. ऐसी ही और  Famous Story In Hindi पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें. Thanks.

Read More Hindi Stories :

अपनी क्षमता पहचानी – प्रेरणादायक कहानी

हार में जीत : प्रेरणादायक कहानी

ख़ुशी की तलाश : प्रेरक कहानी

जीवन का मूल्य : प्रेरणादायक कहानी

Leave a Comment