तेनालीराम की कहानी : दूत का उपहार

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम तेनालीराम और दूत का उपहार कहानी (Kahani Tenali Rama Ki) शेयर कर रहे हैं. तेनालीराम की इस कहानी (Tenali Raman Stories In Hindi) में अन्य राज्य का एक दूत महाराज कृष्णदेव राय के राज्य में आता है. महाराज उससे कोई उपहार मांगने को कहते हैं. दूत जो उपहार मांगता है, उसे सुनकर सबका सिर चकरा जाता है. दूत क्या उपहार मांगता है? क्या महाराज उसे वह उपहार दे पाते हैं? तेनालीराम की इसमें क्या भूमिका रहती है? यही इस कहानी में बताया गया है.  पढ़िए पूरी कहानी :

Kahani Tenali Rama Ki 

Table of Contents

Kahani Tenali Rama Ki
Kahani Tenali Rama Ki | Kahani Tenali Rama Ki

 “तेनालीराम की कहानियों” का पूरा संकलन यहाँ पढ़ें : click here


एक बार विजयनगर राज्य के राजा कृष्णदेव राय के दरबार में उनके मित्र पड़ोसी राज्य के राजा का दूत संदेश लेकर आया. वह अपने साथ ढेरों उपहार भी लेकर आया, जो पड़ोसी राजा ने भिजवाये थे. दूत विजयनगर में तीन दिन तक रुका. इन तीन दिनों में विजयनगर के राजदरबारियों द्वारा उसकी आव-भगत में कोई कमी नहीं रखी गई.  

वापस जाने वाले दिन जब दूत राजा कृष्णदेव राय से मिलने आया, तो उन्होंने भी अपने मित्र को देने के लिए दूत को ढेर सारे उपहार दिए. वे दूत को भी कुछ उपहार देना चाहते थे. उन्होंने उससे पूछा, “हम तुम्हें उपहार देना चाहते हैं. जो चाहे मांग लो. हीरे-जवाहरात, सोने के सिक्के, आभूषण, रत्न.”

राजा कृष्णदेव राय की बात सुनकर दूत बोला, “महाराज, आपके मेरे संबंध में विचार किया. इसलिए बहुत-बहुत धन्यवाद. किंतु मुझे ये सब नहीं चाहिए. यदि आप मुझे उपहार देना ही चाहते हैं, तो कुछ ऐसा दीजिये, जो सुख-दुःख में जीवन भर मेरे साथ रहे. जिसे कोई भी मुझसे छीन न पाए.”

दूत की मांग सुनकर राजा कृष्णदेव राय सोच में पड़ गए. उन्हें समझ नहीं आया कि आखिर दूत उपहार स्वरुप चाहता क्या है? उन्होंने इस आशा में दरबारियों की ओर दृष्टि घुमाई कि वे उन्हें इस संबंध में कुछ परामर्श दे सकें. किंतु सबके चेहरे पर परेशानी के भाव देख वे समझ गए कि उनकी स्थिति भी उनसे भिन्न नहीं है.

पढ़ें : तेनालीराम और महाराज की खांसी की कहानी 

ऐसे अवसर पर तेनालीराम की बुद्धिमानी की कारगर सिद्ध होती है, ये सोचकर उन्होंने तेनालीराम से कहा, “तेनालीराम, हमारी आज्ञा है कि दूत के जो मांगा है, वह उपहार तुम उन्हें हमारी ओर से दो.”

“अवश्य महाराज. जब आज दोपहर जब दूत यहाँ से अपने देश के लिए प्रस्थान करेंगे, तो वह उपहार उनके साथ होगा.” तेनालीराम ने उत्तर दिया.

दूत के विदा लेने का समय आया. उसके रथ में राजा के लिए दिए गए सारे उपहार रखवा दिए गये. विदा लेने की घड़ी में दूत राजा कृष्णदेव राय से बोला, “अच्छा महाराज मुझे आज्ञा दीजिये. आपके आतिथ्य के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद. किंतु दुःख इस बात का है कि मेरा उपहार मुझे प्राप्त न हो सका.”

दूत की बात सुनकर राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम की ओर देखा, तो तेनालीराम मुस्कुराते हुए बोला, “महाराज, इनका उपहार तो इनके साथ ही है.”

पढ़ें : तेनालीराम और बेशकीमती फूलदान की कहानी 

राजा कृष्णदेव राय, दूत सहित वहाँ उपस्थित सभी दरबारी आश्चर्य में पड़ गए, तो तेनालीराम दूत से बोला, “महाशय, आप पीछे पलटकर देखिये, आपका पुरूस्कार आपके साथ है.”

दूत ने पीछे पलटकर देखा, तो उसे कुछ दिखाई नहीं पड़ा. वह बोला, “मुझे तो कोई उपहार दिखाई नहीं पड़ रहा. कहाँ है मेरा उपहार?”

इस पर तेनालीराम बोला, “महाशय, ध्यान से देखिये. आपका उपहार आपके पीछे है और वह गई – आपका साया, जो सुख-दुःख में जीवन भर आपके साथ रहेगा और उसे कोई भी आपसे छीन नहीं पायेगा.”

यह सुनना था कि राजा कृष्णदेव राय हँस पड़े. दूत भी मुस्कुरा उठा और बोला, “महाराज, मैंने तेनालीराम की बुद्धिमानी की बहुत चर्चा सुनी थी. मैं वही आजमाना चाहता था. वाकई, तेनालीराम की चतुराई प्रशंषा योग्य है.”

इसके बाद दूत विदा लेकर वहाँ से चला गया. राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम की पीठ थपथपा कर उसकी बुद्धिमानी की दाद दी.  


Friends, आपको “Kahani Tenali Rama Ki कैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें. ये Tenali Rama Story In Hindi पसंद आने पर Like और Share करें. ऐसी ही और  Tenali Ram Tales पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें. Thanks.

Read More Hindi Stories :

21 Best Akbar Birbal Stories In Hindi

21 Best Panchatantra Stories In Hindi    

21 Best Motivational Stories In Hindi

21 Best Moral Stories In Hindi

   

Leave a Comment